Apna Time Bhi Aayega 25th September 2021 Written Episode Written Update

रानी रोती है और कहती है कि क्या हुआ है। वह रोती है। विजया कहती है कि तुम यहाँ क्या कर रहे हो? वह कहती हैं कि वे पुराने परिचित थे। भावुक हो गए? रानी हाँ कहती है। एक महिला का कहना है कि एमआईएल अभी-अभी मरी है और उसने अपना असली रंग दिखाया है। वह किस तरह की डीआईएल है? विजया कहती हैं कि वह किस डीआईएल के बारे में बात कर रही हैं? रानी वीर की पत्नी के बारे में कहती है। वह यहाँ भी नहीं है। इतना हुआ। विजया ने राजेश्वरु के चेहरे पर कपड़ा डाला और कहा कि तुम्हारे जैसा अहंकारी कोई दोबारा पैदा नहीं होगा। अलविदा। राजमाता रोती है। वीर और विक्रम रोने का नाटक करते हैं। राजेश्वरी का कहना है कि यह चादर इतनी गंदी है।

विजया काजरी से पूछती हैं कि मुझे ऐसा क्यों लगता है कि मैंने आपको पहले देखा है। रानी का कहना है कि मुझे आशा है कि उसने सलोनी को नहीं पहचाना है। रानी का कहना है कि उनका चेहरा आम है। चलो चलते हैं। वीर कहते हैं मौसी सा मैं अंतिम संस्कार के बाद काम पर आ सकता हूं। वह कहती है कि तुम पैसे भी ले सकते हो और मैं तुम्हारी तनख्वाह से काट दूंगा। वह रानी के साथ चली जाती है। विजया कहती हैं कि मैं यहां राजेश्वरी की हालत देखकर मस्ती करने आई थी। मैं अब खाली महसूस करता हूँ। अब मैं किससे लड़ूंगा? चलो चलते हैं। रानी कहते हैं कि आप देखें आगे क्या है।

Scene 2
रानी रात में सो रही है। विजया उठी और बोली एसी किसने बंद किया। वह लाइट जलाती है लेकिन वह चालू नहीं होती है। कोई ताली बजाता है। विजया कहती हैं कि यह कौन है? मेरे सामने आओ। मैं तुम्हें टुकड़ों में काट दूंगा। द लाइट्स स्पार्क। विजया कहती है कि यहाँ कौन है। क्या हो रहा है। वह आईने में राजेश्वरी को देखती है और चिल्लाती है। विजया चिल्लाती है सूरज .. मुझे बचाओ। रानी और सूरज अंदर आते हैं। रानी कहती है तुम क्यों चिल्ला रहे हो? वह कहती है कि राजेश्वरी यहाँ थी।

राजेश्वरी दरवाजे के पीछे छिपी है। सूरज कहते हैं लेकिन वह मर गई ना? रानी कहती है कि यहाँ कोई नहीं है। विजया कहती है कि मैंने तुमसे कहा था कि वह यहाँ है। रानी कहती हैं मुझे लगता है कि आप सदमे में हैं। विजया कहती हैं कि मैं पागल नहीं हूं। वह यहाँ है। सूरज कहते हैं यहाँ कौन है? बाहर आओ। रानी कहती हैं मुझे लगता है कि अगर आपने इसे देखा तो यह एक भूत होना चाहिए। विजया डर गई। सूरज कहते हैं मैं किसी भूत से नहीं डरता। बाहर आओ। मेरी माँ को कौन छेड़ रहा है? वह कहते हैं माँ यहाँ कोई नहीं है। इट्स योर डाउट।

रानी ने विजया को छुआ। वह चिल्लाती है। विजया कहती हैं मुझे दिल का दौरा मत दो। रानी कहती हैं कि क्या उन्होंने वही साड़ी पहनी थी? विजया कहती हैं क्यों? मैं कह रहा हूँ वह यहाँ है। वह कहती है कि मैं यहाँ सो नहीं सकता। क्या मैं आपके कमरे में सो सकता हूँ सूरज? वह कहता है हाँ आओ माँ। वो जातें हैं। राजेश्वरी कहती हैं कि विजया को डरा हुआ देखना कितना मजेदार है। वह एक फूलदान से टकराती है। सूरज और विजया स्टॉप। सूरज डर गया। विजया कहती हैं अंदर जाओ और जाँच करो। रानी कहती हैं कि किचन में सोमोनी है। विजया कहते हैं भूत? सूरज कहते हैं, ऐसी कोई बात नहीं है। मुझे जाँचने दो। वह बाहर जाता है। राजेश्वरी वहां से चुपके से निकल गई।

सूरज कहते हैं कोई यहाँ नहीं है माँ। यह सब आपकी कल्पना है। आओ सो जाते हैं।

SCene 3
राजेश्वरी शांति के कमरे में आती है। वह कहती है आओ रानी सा बैठो। क्या मुझे आपको ग्रीन टी मिलनी चाहिए? वह अपना पानी देती है। राजेश्वरी याद करती हैं कि वह उनका अपमान करती थीं। वह अपनी चाय देती है। राजेश्वरी कहते हैं धन्यवाद शांति। आप पैसे के बिना भी मेरे प्रति वफादार हैं। वीर कहते हैं रानी सा तुमने बहुत अच्छा किया। वह कहती है कि उसे डरा हुआ देखकर मज़ा आया। रानी कहती है कि वह कांप रही थी। मुझे नहीं लगता कि वह सो पाएगी। राजेश्वरी का कहना है कि क्या योजना है? वीर कहते हैं कि हम उसे डराएंगे और सब कुछ वापस कर देंगे। रानी का कहना है कि उसका डर उसे ऐसा करने के लिए मजबूर करेगा।

Scene 4
राजेश्वरी रात को सो नहीं पाती। सूरज कहते हैं माँ .. कोई नहीं है। आपको सोना चाहिए। विजया कहती हैं मैंने खुद मिठू को देखा। वह मुझे डरा रही थी। रानी ने भी उसे देखा। सूरज कहते हैं कि तुमने उसे देखा। मजबूत रहो। विजया कहती हैं कि लाइट बंद रखो। वह कहते हैं शुभ रात्रि माँ। वह सोता है। विजया डर गई।

रानी राजेश्वरी को नीली साड़ी देती है और कहती है कि राउंड 2 के लिए समय है। विजया सो रही है। वह किसी को चलते हुए सुनती है। उसने देखा कि उसके कमरे में धुआं आ रहा है। विजया कहती हैं कि यहाँ क्या हो रहा है। वह कहती है सूरज सही था। मुझे अपने डर का सामना करना चाहिए। विजया कहती है कि मैं ठीक हो जाऊंगा। राजेश्वरी कुछ नहीं कर सकती। वो दरवाजा खोलती है। राजेश्वरी रानी की पीठ देखती है और कहती है कि यह राधिका है। वह कहती है कि आप इस समय यहाँ क्या कर रहे हैं? वह रानी का चेहरा पीछे देखती है। रानी की आंखें लाल हैं। विजया पूछती है कि तुम कौन हो? मिठू कहती है। यह सब मेरे किसी काम का नहीं है। आई हैव इन अ फ़ार अवे लैंड। परन्तु मैं तुझे अपने पास ले आऊंगा और अपना बदला लूंगा। विजया चिल्लाती है और रोती है। राजेश्वरी अंदर जाती है और रानी की जगह लेती है। विजया चिल्लाती है। वह कहती है कि तुम्हारे पाप खत्म हो गए हैं। अब आपको कोई नहीं बचा सकता।

Leave a Comment